विद्यार्थी जीवन में नशा एक अभिशाप

विद्यार्थी जीवन में नशा एक अभिशाप

मनुष्य जीवन ईश्वर का दिया हुआ एक अनमोल तोहफा है, जिसे हम बहुत ही आरामदायक व्यतीत करना चाहते हैं। कोई भी मनुष्य अपने जीवन को बर्बाद नहीं करना चाहता, उसके जीवन में कष्ट और बुराइयां आए ऐसा कोई मनुष्य नहीं चाहेगा। पुराने समय के मनुष्य बहुत ही तंदुरुस्त और अकलमंद हुआ करते थे। वह लंबे समय तक अपना कार्य लगातार कर सकते थे। लेकिन आज के व्यक्तियों के शरीर में शक्ति नहीं रही। वास्तव में कारण यह है कि वर्तमान युवा पीढ़ी व विद्यार्थी अपनी मानसिक परेशानियों को दूर करने के लिए नित नए-नए नशे का प्रयोग कर रहे हैं शौकिया तौर पर नशे को अपनाते हैं और बाद में नशे के आदी हो जाते हैं। उन्हें नशे की लत इस प्रकार लग जाती है कि उन्हें अपने परिवार प्रति जिम्मेदारियों का ध्यान तक नहीं रहता।
यदि हम विद्यार्थियों की बात करें तो आज का विद्यार्थी नशे से दूर नहीं है। यह बात आम हो गई है कि जब विद्यार्थी परीक्षा में फेल हो जाता है तो वह अपनी मानसिक परेशानी और लोगों के ताने से बचने के लिए शराब, सिगरेट आदि का सेवन प्रारंभ कर देता है। कई बार ऐसा भी होता है यदि उसका मित्र परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर ले तो वह उसके प्रति जलन महसूस करता है और उसकी बराबरी न करने के कारण भी उसके बारे में बहुत बुरा सोचता है और उसके मन में बहुत बुरे विचार आते हैं और अपने आप को नशे की तरफ ले जाता है। इस प्रकार वह अपना अनमोल जीवन बिल्कुल बर्बाद कर लेता है। अगर वह अपने मन में अच्छे विचार लाकर अपने मित्र की तरह मन लगाकर अच्छे से पढ़ाई करता और मेहनत करता तो बहुत ही अच्छे अंक प्राप्त कर सकता था लेकिन वह ऐसा नहीं किया करते और गलत रास्ते पर चल कर अपना जीवन बर्बाद कर लेते हैं।
प्यारे दोस्तों हमें मानसिक परेशानियों को दूर करने के लिए नशा जैसे गलत रास्ते पर नहीं जाना चाहिए। ईश्वर ने हमें मनुष्य जीवन दिया है जो सृष्टि में सर्वोत्तम है इस जीवन को बहुत ही सरलता और साधारण व्यतीत करना चाहिए। यदि जीवन में कोई मानसिक परेशानी आए तो हमें अपने अध्यापकों तथा माता पिता के साथ जरूर सांझा करना चाहिए न कि हमें गलत रास्ते पर जाकर नशा आदि की लत का शिकार होना चाहिए। क्योंकि नशा जहां पर आप के मान सम्मान को हानि पहुंचाता है वही आपके जीवन को भी नर्क बना देता है। तो आओ हम यह प्रण करें कि भारत को एक नशा मुक्त राष्ट्र बनाएं मैं तो यही कहूंगी कि
नशा मुक्त राष्ट्र हो अपना
पूरा हो सबका सपना।

अनीशा
श्रेणी 11वीं बी
रोल नंबर 16
राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मलोट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *