अमृतसर में आईआईएम लाने के लिए पूर्व अकाली-भाजपा सरकार तथा एनडीए द्वारा किए कार्यों को पहचानने के लिए अकाली दल ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद किया

अमृतसर में आईआईएम लाने के लिए पूर्व अकाली-भाजपा सरकार तथा एनडीए द्वारा किए कार्यों को पहचानने के लिए अकाली दल ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद किया

आईआईएम, अमृतसर का पक्का कैंपस बनाने के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए रमेश पोखरियाल का स्वागत किया

केंद्र से आईआईएम श्री गुरु नानक देव जी को समर्पित करने का आग्रह किया

अमृतसर/07अक्टूबरः शिरोमणी अकाली दल ने आज पवित्र नगरी अमृतसर में आईआईएम जैसे प्रतिष्ठित प्रोजेक्ट लाने के लिए पूर्व अकाली-भाजपा तथा एनडीए द्वारा किए कार्यों को पहचानने के लिए कांग्रेस सरकार तथा मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का धन्यवाद किया तथा साथ ही मुख्यमंत्री को मशवरा दिया कि दूसरों द्वारा किए कार्यों का श्रेय लेने की बजाय पंजाब में ऐसा कोई अन्य प्रोजेक्ट लाने के लिए काम करे।

इसके साथ ही अकाली दल ने आज पवित्र गुरु की नगरी में इस संस्थान को शुरू करवाने तथा आईआईएम का पक्का कैंपस स्थापित करने के लिए आए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री रमेश पोखरियाल का धन्यवाद किया तथा उनसे आग्रह किया कि श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व समागम के अवसर पर इस संस्थान को गुरु साहिब को समर्पित किया जाए।

यहां एक प्रेस बयान जारी करते हुए सरदार बिक्रम सिंह मजीठिया तथा गुलजार सिंह रणीके ने कहा कि यह अच्छी बात है कि मुख्यमंत्री ने पूर्व वित्तमंत्री श्री अरूण जेटली द्वारा आईआईएम को अमृतसर में बनाने की मंजूरी देकर निभाई सेवा को पहचाना है। उन्होने कहा कि इस संस्थान के लिए एनडीए-1 सरकार ने पहले बजट में भी मंजूरी दे दी थी, जिसके बाद श्री अरूण जेटली जी ने 26जून 2016 को उस समय के मुख्यमंत्री सरदार परकाश सिंह बादल, उपमुख्यमंत्री सरदार सुखबीर सिंह बादल, कैबिनेट मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी तथा वरिष्ठ अकाली नेताओं की उपस्थिति में इस संस्थान की आधारशीला रखी  थी।

अकाली नेताओं ने कहा कि यह अच्छी बात है कि मुख्यमंत्री अकाली भाजपा सरकार द्वारा किए कार्यों को स्वीकार कर रहा है, इसी तरह वह पहले मुबंई में काॅरपोरेट घरानों के मुख्यिों के आगे सरदार सुखबीर सिंह बादल द्वारा निवेश पंजाब विभाग बनाने की सराहना कर चुका है जिसके कारण राज्य में भारी निवेश का रास्ता खुल गया है। वह सरदार परकाश सिंह बादल द्वरा बनाए जंग-ए-आजादी तथा वार संग्रहालय जैसी यादगारों की भी दिल खोलकर तारीफ कर चुका है। उन्होने कहा कि पर कांग्रेस सरकार तथा इसके मुख्यमंत्री को खुद भी कुछ करने की आवश्यकता है। कांग्रेस सरकार को अपनी कोई भी उपलब्धि चाहे वो कितनी भी छोटी क्यों न हो बतानी चाहिए। सिर्फ अकाली-भाजपा तथा एनडीए सरकारों द्वारा किए कामों के आगे फोटो खिंचवाकर कुछ प्राप्त नही होगा।

अकाली नेताओं ने कहा कि कांग्रेस सरकार को आईआईएम तथा एम्स बठिंडा जैसे प्रतिष्ठित संस्थान पंजाब में लाने के लिए काम करने की आवश्यकता है। एक चुनी हुई सरकार से कम से कम इतनी उम्मीद तो की ही जा सकती है। उन्होने कहा कि यदि यूपीए सरकार के समय इन संस्थानों को मंजूदी दे दी जाती तो हमारे नौजवानों को इसका बहुत लाभ होना था। उन्होने कहा कि यह बेहद गर्व की बात है कि सोनिया गांधी के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान 10 साल उपेक्षा सहने के बाद एनडीए सरकार द्वारा पंजाब को प्राथमिकता दी जा रही है।

पंजाब में एक उच्च स्तरीय शिक्षा संस्थान स्थापित करने के लिए मंजूरी देने के लिए प्रधानमंत्री का धन्यवाद करते हुए अकाली नेताओं ने पंजाब के लंबे समय से लटके मसले हल करने के लिए भी श्री मोदी का धन्यवाद किया। इनमें कांग्रेसियों द्वारा किए 1984 कत्लेआम के केसों की दोबारा जांच के लिए सिट बनाना, लंगर पर जीएसटी वापिस करना, कांग्रेस द्वारा बनाई विदेशों में रहते सिखों की काली सूचियां समाप्त करना, सजाएं पूरी करने के बाद भी जेलों में सड़ रहे सिख कैदियों को रिहा करना तथा करतारपुर साहिब काॅरिडोर का निर्माण करना शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *